Business Idea: घर बैठे करें लाल सोना की खेती, जल्द बन जाएंगे करोड़पति, जानिए कैसे करें शुरू

हेलो दोस्तों क्या आप भी उन लोगों में से हैं जो अपना खुद का व्यापार शुरू करने का सोच रहे हैं लेकिन आपके पास ऐसा कोई बिजनेस आइडिया मौजूद नहीं है जिसकी मार्केट में बहुत ज्यादा डिमांड हो और आने वाले समय में उसकी डिमांड बड़े इसके अलावा उसमें मुनाफा भी जाता हूं अगर आपका जवाब हां है तब मैं आपको बता दूं कि आप बिल्कुल सही पोस्ट पर आए हैं

क्योंकि आज के इस आर्टिकल में हम आपको एक ऐसे शानदार व्यापार आईडिया के बारे में बताने वाला है जिसे शुरू कर क्या मालामाल हो सकते हैं और अगर आप खेती में दिलचस्पी रखते हैं तब तो यह आपके लिए बहुत ही ज्यादा फायदेमंद है क्योंकि आज हम खेती से जुड़े एक बिजनेस के बारे में बात करने वाले हैं

और वह बिजनेस आइडिया है केसर की खेती का बिजनेस आइडिया इसकी खेती शुरू करके आप ₹300000 से लेकर ₹600000 महीना या फिर इससे अधिक भी प्रति महीने बड़े ही आसानी से कमा सकते हैं तो चलिए हम जानते हैं कि से आप कैसे शुरू कर सकते हैं

Saffron business idea

दोस्त आप लोगों को बता देगी केसर को लाल सोना भी कहा जाता है और उसकी सबसे बड़ी वजह यह है कि इसकी कीमत ही इतनी ज्यादा होती है अगर कीमत की बात यहां शुरू हुई है तो हम आपको बता दें कि इंडिया में अभी केसर की कीमत क्या कर बात कर ले तो वह लगभग 250000 से लेकर ₹300000 तक देखने को मिल जाती है वहीं इसकी खेती के लिए बीच की बात करें तो 10 वॉल्व बीज का इस्तेमाल किया जाता है जिसकी कीमत लगभग ₹550 होती है

केसर की खेती के लिए खेत कैसे बनाएं

दोस्तों केसर की खेती करने के लिए सबसे महत्वपूर्ण यह है कि अप्पू खेत तैयार करना होगा जुताई करके इसके बाद आपको खेत की सारी मिट्टी को बुरा बना देना है जब आप खेत बनाने के लिए आखरी बार खेत की जुताई करोगे उससे पहले आपको उस खेत में लगभग 20 टन के आसपास गोबर की खाद डाल लेना है यह इसलिए कि इससे केसर की पैदावार में वृद्धि होगी इसके अलावा आपको कुछ अन्य इस्तेमाल करना है

जिसमें 90 किलोग्राम नाइट्रोजन तथा 60 किलोग्राम फास्फोरस इसके अलावा पोटाश एक हेक्टेयर खेत के अनुसार आपको डाल लेना है अगर हम इसकी बुवाई की बात करें तो इसके लिए सबसे अच्छा समय पहाड़ी इलाकों के लिए जुलाई से अगस्त का माना जाता है अगर आप किसी मैदानी क्षेत्र में इसकी खेती करना चाहते हैं तो उसके लिए फरवरी और मार्च का समय सबसे बेहतरीन होता है

गर्म मौसम में की जाती हैं केसर की खेती

और हां दोस्तों आपको जरूरी बात बता दे कि केसर की खेती को ठंड की या फिर बारिश के मौसम में नहीं किया जाता है बल्कि इसे गर्मी के मौसम में किया जाता है

किस मिट्टी में उगाई जाती है केसर

केसर की खेती किस मिट्टी में की जाती है इसको जानने से पहले मैं आपको कुछ जरूरी बात बता देता हूं जिन्हें आपको याद रखना और इस चीज को इंप्लीमेंट करना बहुत ही आवश्यक है आप किसी ऐसी जमीन में केसर की खेती ना करें जहां पर पानी का जमाव होता है

वरना आपकी पूरी फसल बर्बाद हो जाएगी तो सीधी सी बात यह है कि आपको ऐसी जगह देखना है जहां पर पानी जमा नहीं होता वह दूसरी बात आती है मिट्टी की तो इसके लिए बालुई दोमट चिकनी ओर रेतीली मिट्टी अच्छी होती है

केसर की खेती से कमाई कैसे होगी

अब आता है सबसे बड़ा सवाल कि केसर की खेती से आपकी कमाई कैसे होगी और कितनी होगी तो आपको मैं बता दूं कि आप जो भी केसर उगाएंगे उसे आपको बेचना होगा आपकी सर को अपने नजदीकी मंडी में भी भेज सकते हैं या फिर इसके अलावा आप ऑनलाइन ई कॉमर्स वेबसाइट का भी सहारा ले सकते हैं

और वहां से भी आपकी सर की बिक्री कर सकते हैं अगर आप 1 महीने में 2 किलो केसर बेच पाते हैं तो अब बड़े ही आराम से ₹600000 की कमाई कर लेंगे अगर आप 1 किलो भी बेचते हैं तो आपकी लगभग तीन लाख की कमाई हो जाएगी

बीमारियों के लिए होता है फायदेमंद

दोस्तों जैसा कि आपको और हम सभी लोगों को पता है कि कि सर का उपयोग मिठाई बनाने में जैसे कि गुलाब जामुन और कई अन्य तरह की मिठाई बनाने में किया जाता है जिससे मिठाई का स्वाद कई गुना बढ़ जाता है

लेकिन एक और खास बात मैं आपको बता दूं कि केसर का उपयोग कई बीमारियों की दवाई तैयार करने में भी किया जाता है जैसे पेट से संबंधित बीमारियों की दवाई तैयार करने में इसका उपयोग किया जाता है क्योंकि यहां पेट की समस्याओं के लिए बहुत ही लाभदायक होता है

यह भी जरूर पड़े :-

Business Idea: गली-गली में चलने वाला सुपरहिट बिजनेस, लागत से 4-5 गुना होगी कमाई, जानिए कैसे करें शुरू

Business Idea: इस बिजनेस में देंगे हजारों को जॉब, हर महीने होगी तगड़ी कमाई!

Business Idea: इस बिजनेस में नौकरी की टेंशन हो जाएगी खत्म, सिर्फ 6 साल में बन जाएंगे करोड़पति, जानिए कैसे

शेयर जरूर करे

Similar Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *